Home / technology

CAR DRIVING TIPS: हाइवे पर सुरक्षित ढंग से वाहन चलाएं, इन बातों का रखें विशेष ख्याल।

CAR DRIVING TIPS: हाइवे पर सुरक्षित ढंग से वाहन चलाएं, इन बातों का रखें विशेष ख्याल।

वाहन चलाते वक़्त हमें बेहद सतर्क रहने की ज़रूरत होती है, कई बार आप तो अपने वाहन को सही से चला रहे होते हैं लेकिन दूसरे की गलती से भी एक्सीडेंट हो जाते हैं इसलिए बहुत चौकन्ने रहकर अपने वाहन को चलाएं। इसके साथ ही हाइवे पर गाड़ी चलाते समय कुछ बातों का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए क्यूंकि हाइवे पर ड्राइविंग करते समय छोटी सी गलती भी बहुत खतरनाक साबित हो सकती हैं. इसलिए आज हम आपको कुछ ऐसी बातों के बारे में जानकारी रहे हैं जिनका ध्यान रखकर आप हाइवे पर अपने वाहन को सुरक्षित ढंग से चला सकते हैं.



स्पीड पर रखें नियंत्रण और ओवरटेक में रखें विशेष सावधानी

जब भी आप अपने वाहन को हाइवे पर लेकर चलें तो कभी भी तेज़ रफ्तार में न चलें क्यूंकि ये खतरनाक साबित हो सकता है इसके साथ ही जब आप शहर के बाद हाइवे पर एंट्री करें तो उस वक़्त गाड़ी की रफ्तार अचानक से न बढ़ाएं. आपका दिमाग और शरीर अचानक स्पीड के साथ एडजेस्ट करने में समय लेता है और अगर आप अचानक से स्पीड बढ़ाते हैं तो इससे हादसे की आशंका बढ़ जाती है. रास्ते में पड़ने वाले साइन बोर्ड अच्छी तरह से देखें और अगर आगे मुड़ने का बोर्ड लगा हो तो कभी भी ओवरटेक न करें जब मोड़ खत्म हो जाए, तभी ओवरटेक करना चाहिए। कभी भी अपने वाहन के स्टेरिंग को अचानक से जयादा नहीं घुमाना चाहिए इससे आपका कंट्रोल आपकी गाडी से छूट सकता है. रात में ड्राइविंग करते समय हमेशा लो बीम पर गाडी चलाएं इससे दूसरों को दिक्कत नहीं होगी क्यूंकि अगर आप हाई बीम पर वाहन चलाते हैं तो सामने से आने वाले वाहन को दूरी का अंदाजा लगाने में दिक्कत होती है. हाइवे पर ओवरटेक करने के लिए थर्ड राइट लेन सुनिश्चित की गई है इसलिए इसी लेन से ओवरटेक करें राइट लें में स्लो नहीं चलना चाहिए यदि आप राइट लेन में धीमी गति के साथ चलेंगे, तो ओवरटेक करने वाला लेफ्ट से निकलेगा और जिग-जैग करते हुए कहीं भी गाड़ी को टक्कर मार सकता है. एक बात हमेशा ध्यान रखें कभी भी
​बड़े वाहनों के नज़दीक अपने वाहन को न चलाएं उनसे हमेशा उचित दूरी बनाएं रखें। ये कुछ ख़ास बातें हैं जिन्हे आप ड्राइविंग करते समय याद रखेंगे तो आपको हाइवे पर ड्राइविंग करने में आसानी होगी।

Story by - Nitin Sharma
Updated on 2021-06-21 15:47:12


ये भी पढ़ें...
ऑनलाइन गेमिंग बनी बच्चों के लिए ख़तरनाक, जाने क्या क्या नुकसान है इसके।

ऑनलाइन गेमिंग बनी बच्चों के लिए ख़तरनाक, जाने क्या क्या नुकसान है इसके। आज के समय में आधुनिक संसाधनों ने बच्चों के आउटडोर गेम्स पर अंकुश सा लगा दिया है। ज्यादातर बच्चे मोबाइल से जुड़े गेम में ही व्यस्त रहते हैं जिसका नतीजा मानसिक बीमारी के रूप में देखने में आ रहा है। पुलिस रेडियो ट्रेनिंग स्कूल के प्रोफेसर गौरव रावल बताते हैं कि ऑन लाइन गेमिंग से बच्चों में अवसाद जैसी बीमारियां बढ़ रही हैं। विडियो गेम इलेक्ट्रॉनिक, इंटरैक्टिव गेम हैं, जो उनके जीवंत रंग, ध्वनि प्रभाव और जटिल ग्राफिक्स के लिए जाने जाते हैं। यह तारों से जुड़े एक गेम बॉक्स को स्थापित करके एक टेलीविजन सेट या कंप्यूटर में चलाए जाते हैं। तब बच्चा वर्चूअल और एक्चुअल दुनिया के बीच का फर्क भूल जाता है। बच्चा एक चरित्र या चरित्र की श्रृंखला को नियंत्रित करने के लिए जॉयस्टिक या नियंत्रक का उपयोग करता है और आभासी दुनिया में खो जाता है। प्रोफेसर गौरव रावल बताते हैं कि ऑनलाइन गेमिंग से फबिंग, टेक्स एंग्जायटी , फोमो जैसी बीमारिया देखने को मिल रहीं हैं। इससे आप वो करने लगते हैं, जो आपको नहीं करना चाहिए। प्रोफेसर गौरव रावल ने कहा कि इससे बचाव के लिए जितना हो सके बच्चों को मोबाइल से दूर रखें। यदि बच्चा मोबाइल या कम्प्यूटर चलाता भी है तो उस पर निगरानी रखें। ऐसा करने से बच्चों को डीप्रेशन से बचाया जा सकता है। आपको बता दें कि वीडियो गेम मुख्य रूप से बच्चों और किशोरों को आकर्षित करने के लिए डिजाइन किए जाते हैं। ऑनलाइन गेम, कंप्यूटर नियंत्रित गेम हैं, जहां खिलाड़ी मनोरंजन के लिए स्क्रीन पर प्रदर्शित वस्तुओं के साथ खेलते हैं। “कंप्यूटर गेम” शब्द में ऐसे गेम भी शामिल होते हैं जो केवल टेक्स्ट प्रदर्शित करते हैं या जो ध्वनि या कंपन जैसे उनके प्राथमिक फीडबैक डिवाइस या नियंत्रक में से किसी एक संयोजन के रूप में अन्य विधियों का उपयोग करते हैं।

SBI की तरफ से 90 हज़ार रुपए कमाने का सुनहरा मौका|

अरीबा नसीम SBI की तरफ से 90 हज़ार रुपए कमाने का सुनहरा मौका| कोरोना काल में हर कोई पैसों से परेशान रहा है, किसी की नौकरी चली गई तो किसी का धंदा बंद हो गया, तो किसी के पास पैसे हैं लेकिन आईडिया नहीं, ऐसे में अगर ऐसा कोई ऑफर सामने आ जाये तो वो किसी जादू से कम नहीं| ऐसा ही एक ऑफर और मौका दे रहा है स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया, जहाँ आपको 90 हज़ार रुपए महीने तक कमाने का मौका मिल सकता है| क्या करना होगा? आपको सबसे पहले बैंक में जाकर पता लगाना होगा की आसपास में किस जगह एटीएम मशीन की ज़रूरत है, फिर आपको SBI की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाकर अप्लाई करना होगा| इसके बाद जैसे ही आपको अप्रूवल मिल जाता है वैसे ही आपको 2 लाख रुपए सिक्योरिटी के तौर पर जमा करने होंगे, और 3 लाख रुपए वर्किंग कैपिटल के तौर पर जमा करने होंगे, बता दें कि यह पैसा रिफंडेबल होगा| जिस भी वक़्त आप यह फ्रेंचाइसी बंद करने का फैसला लेंगे उसी वक़्त आपका अमाउंट आपको वापस मिल जायेगा| कौन-कौन से दस्तावेज़ की पड़ेगी ज़रूरत: 1. पहचान पत्र (आधार कार्ड, वोटर कार्ड, पैन कार्ड ) 2. मूल निवास (बिजली बिल, राशन कार्ड ) 3. फोटो, e-mail id, फ़ोन नंबर 4. बैंक अकाउंट और पासबुक 5. फाइनेंसियल डाक्यूमेंट्स 6. Gst नंबर बता दें कि यह पैसे आपको कैसे मिलेंगे? तो बैंक का एक नियम होता है जिसके आधार पर यह निर्धारित किया जाता है कि कैश ट्रांसैक्शन पर 8 रुपए और नॉन -कैश ट्रांसैक्शन पर 2 रुपए प्रति महीने चार्ज लगेगा जिसका सीधा मतलब है कि रिटर्न में 40-50% तक का फायदा मिलेगा| मान लो महीने में 250 ट्रांसक्शन्स हुए तो आपको महीने के 45-50 हज़ार रुपए मिलेंगे और अगर यही ट्रांसैक्शन 500 या उससे अधिक हुए तो 80-90 हज़ार रुपए महीना मिलेंगे| यह एक बहुत ही अच्छा जरिया है पैसा कमाने का जो SBI द्वारा दिया जा रहा है।

आपके फोन का स्पेस भर गया तो न हों परेशान, WhatsApp के हैंग होने की समस्या से पाएं छुटकारा।

आपके फोन का स्पेस भर गया तो न हों परेशान, WhatsApp के हैंग होने की समस्या से पाएं छुटकारा। WhatsApp एक ऐसी एप है जिसे हम अपनी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में इस्तेमाल करते हैं, सुबह से लेकर रात तक हम इसके माध्यम से संदेशों का आदान प्रदान करते हैं इसके साथ ही वीडियो और फोटो भी लोगों को भेजते हैं, लेकिन अगर ये बार बार हैंग होने लगे या प्रोसेसिंह कम हो जाये तो सारा मूड खराब हो जाता है, WhatsApp पर इतने सारे मैसेज वीडियो और फोटो आते रहते हैं की हमें फुर्सत ही नहीं मिलती उनको हटाने की जिसकी वजह से ये एप्लीकेशन हैंग होने लगती है वहीँ कुछ टिप्स अपनाकर आप इसको हैंग होने से रोक सकते हैं. WhatsApp को ऐसे करें क्लीन, फोन चलने लगेगा स्मूथ सबसे पहले तो आप ऑटो सेव का विकल्प अपने फोन में बंद करदे इससे आपके फोन में कोई फ़ाइल सेव नहीं होगी और आपके फोन की मेमोरी भी नहीं भरेगी, इसके बाद अपने फोन को समय समय पर क्लीन करना न भूलें। इन सब फालतू फ़ाइल को हटाने के लिए आप फोन की सेटिंग ऑप्शन में जाएँ वहां जाकर डेटा एंड स्टोरेज पर टैप करें, टैप करते ही आपको स्टोरेज यूजेज का ऑप्शन दिखाई देगा, जब आप इसपर टैप करेंगे तो सभी चैट्स की लिस्ट आपके सामने खुल जाएगी यहां आप देख पाएंगे की किस चैट में कितना स्टोरेज यूज हो रहा है. इतना करने के बाद आप जिस चैट से आइटम्स डिलीट करना चाहते हैं उस पर टैप करें. जब आप खोलेंगे तो आपके सामने वीडियो और फोटोज समेत सभी की लिस्ट सामने दिखाई देने लगेगी. लिस्ट में देखने के बाद आप चयन कर सकते हैं की कौन सी चीज़ आपके काम की है और और कौन सी चीज़ आपको अपने फोन से हटानी है. जो चीज़ आपकी ज़रूरत की हो उसे रहने दें और जो बेकार लगे उसे अपने फोन से डिलीट कर दें, ऐसा करने से आपके फोन का काफी स्पेस खली हो जायेगा साथ ही साथ आपका व्हाट्सऐप भी क्लीन हो जायेगा इसके बाद अपने फोन को रीस्टार्ट करें, जब आपका फोन दुबारा से चालू होगा आप महसूस करेंगे की आपका फोन पहले से जयादा स्मूथ चल रहा है और हैंग की समस्या भी ख़त्म हो जाएगी

MOTERCYCLE TIPS: कम खर्चे में चलाएं मोटरसाइकिल, रखें इन बातों का ख्याल।

MOTERCYCLE TIPS: कम खर्चे में चलाएं मोटरसाइकिल, रखें इन बातों का ख्याल। हम मोटरसाइकिल का इस्तेमाल अपने गंतव्यय तक जाने के लिए करते हैं, हर कोई ये चाहता है की उसकी मोटरसाइकिल अच्छे से चले और बेहतर माइलेज दे, अगर आप ये कुछ टिप्स अपनाते हैं तो आपकी मोटरसाइकिल अच्छी चलेगी और खर्चा भी नहीं मांगेगी। इसके साथ साथ आपकी मोटरसाइकिल की उम्र भी बढ़ जाएगी। एयर फ़िल्टर और स्पार्क प्लग की जांच हम अक्सर मोटरसाइकिल के एयर फ़िल्टर और स्पार्क प्लग को नज़रअंदाज़ कर देते हैं लेकिन अगर आप समय पर इन्हे साफ़ करवाते रहेंगे तो आपकी मोटरसाइकिल का एवरेज अच्छा रहेगा इसके साथ ही इंजन भी दमदार बना रहेगा। हर 1500-2000 किलोमीटर चलाने के बाद स्पार्क प्लग मिस्त्री को दिखा दें इससे आपकी मोटरसाइकिल किसी भी सीज़न में स्टार्ट होने में दिक्कत नहीं करेगी। टायर और व्हील बैलेंसिंग का रखें ध्यान मोटरसाइकिल में टायर की एहम भूमिका होती है इसलिए आप टायर को समय पर बदलवा लें इससे आपकी मोटरसाइकिल स्लिप नहीं होगी, टायर ख़राब होने से इसका असर मोटरसाइकिल की परफॉरमेंस पर भी पड़ता है, इसके साथ ही व्हील बैलेंसिंग भी करवा लें ऐसा करने पर आपकी मोटरसाइकिल लम्बे समय तक आपका साथ देगी। समय पर सर्विस करवाएं अपनी मोटरसाइकिल की समय पर सर्विस करवाएं इससे मोटरसाइकिल में छोटी छोटी कमियां नज़र में आएंगी और आपको अचानक कहीं रस्ते में नुक्सान नहीं उठाना पड़ेगा, इसके साथ ही हमेशा अपनी मोटरसाइकिल Authorized सर्विस सेंटर पर ही करवाएं क्यूंकि वो उसके एक्सपर्ट होते हैं जिस कम्पनी की आप मोटरसाइकिल इस्तेमाल करते हैं। बैटरी का रखें ख्याल अक्सर सर्दियों में बैटरी की समस्या देखने को मिलती है और मोटरसाइकिल स्टार्ट नहीं होती, इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए आप हर सर्विस पर अपनी मोटरसाइकिल की बैटरी चेक करवाएं की कहीं उसमे कोई लीकेज तो नहीं है, या वो सही से चार्ज हो रही है या नहीं? ऐसा करने से आपकी मोटरसाइकिल कभी आपको अचानक धोखा नहीं देगी।

इंस्टाग्राम और फेसबुक पर लाइक छुपाना हुआ आसान, जल्द आएगा नया फीचर।

इंस्टाग्राम और फेसबुक पर लाइक छुपाना हुआ आसान, जल्द आएगा नया फीचर। सोशल मीडिया पर लोग वास्तविक लाइफ कम और काल्पनिक लाइफ मे ज्यादा जीते हैं। सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफार्म है जहां लोग अपने पोस्ट को ज्यादा आकर्षक बनाने के लिए तरह-तरह के टूल्स का प्रयोग करते हैं। अलग अलग टूल्स का प्रयोग करके वह अपने फोटोज और वीडियोज को ऐसा बना लेते हैं कि वह वास्तविकता से बिल्कुल अलग दिखाई देते हैं। ऐसा वह इसलिए करते हैं कि उनके फोटोज और वीडियोज को सोशल मीडिया पर ज्यादा से ज्यादा पसंद किया जाए और उनको ज्यादा से ज्यादा लाइक्स मिले। सोशल मीडिया जॉइंट फेसबुक एक नया फीचर बाजार में लाने वाला है इस फीचर के आने से लोग अपने इंस्टाग्राम और फेसबुक पर पब्लिक लाइक काउंट को दूसरों से हाइड कर सकते हैं। इस फीचर को यूज करके लोग एक दूसरे के पोस्ट पर मिले लाइक्स को नहीं देख सकते। सोशल मीडिया पर लोग अपने पोस्ट और पिक्चर्स के बजाय दूसरों की पोस्ट पर कितनी प्रतिक्रिया हो रही है इसका ज्यादा ध्यान रखते हैं। अपने पोस्ट पर मिले लाइक्स को दूसरों के पोस्ट पर मिले लाइक्स से तुलना करते हैं। सोशल मीडिया यूजर्स के द्वारा लगातार यह कोशिश की जाती है कि वह ऐसा क्या करें कि उनकी पोस्ट को दूसरों से ज्यादा लाइक्स मिले। इस नए फीचर में लाइक अकाउंट हाइड के अलावा एक और नया ऑप्शन मिलेगा जिसमें आप अपने प्रोफाइल के न्यू फीड्स के सारे पोस्ट पर लाइक काउंट को दूसरों से छुपा सकते हैं। जानिए क्या कहना है फेसबुक का ... फेसबुक ने यह कहा है कि लोग अपने द्वारा अपलोड की गई फोटोज और वीडियोज पर ध्यान दें और उन्हें ज्यादा आकर्षक और उच्च क्वालिटी का बनाएं दूसरों की पोस्ट पर मिले लाइक्स पर ध्यान देकर समय की बर्बादी ना करें। लाइक काउंट हाइड फीचर को अपने पोस्ट पर लागू करना है या नहीं यह आप अपनी पोस्ट अपलोड करने से पहले ही चूज कर सकते हैं। आप लाइव पोस्ट डालने के बाद भी लाइक हाइड का ऑप्शन एक्टिवेट कर सकते हैं। क्या कहना है इंस्टाग्राम का ? इंस्टाग्राम के द्वारा यह बताया गया है कि अपने लाइक्स को हाइड करना पूरी तरह लोगों के ऊपर निर्भर होगा। इसके लिए उनको बाध्य नहीं किया जाएगा। यूजर्स अपनी किस पोस्ट पर यह फीचर लागू करना चाहते हैं इसकी पूरी स्वतंत्रता यूजर्स की अपनी होगी। लाइक काउंट हाइड फीचर सोशल मीडिया यूजर्स के लिए एक नया एक्सपीरियंस लेकर आएगा आजकल के दौर में लाइक काउंट के जरिए लोग ट्रेड में क्या चल रहा है यह सब पता लगा लेते हैं। जिन फोटोज और वीडियोस को ज्यादा लाइक्स मिलते हैं वही वायरल हो जाते हैं। इस नए फीचर के आने से सही मायनों में जो फोटोज और वीडियोज देखने लायक होंगे और आकर्षक होंगे वही ट्रेंड में चलेंगे। सोशल मीडिया जॉइंट फेसबुक ने इस फीचर को जल्दी से जल्दी लागू करने के बारे में बताया है।

बढ़ रहा है इलेक्ट्रॉनिक गाड़ियों का चलन, भारत में जल्द ही लॉंच होने वाली मारुती सुजुकी की यह कार.

बढ़ रहा है इलेक्ट्रॉनिक गाड़ियों का चलन, भारत में जल्द ही लॉंच होने वाली मारुती सुजुकी की यह कार. इलेक्ट्रिक कार की अगर बात करे तो भारत में अब इलेक्ट्रिक कार को काफी पसंद किया जा रहा है। इलेक्ट्रिक कार की संख्या भारत में धीरे धीरे बढ़ रही है। वहीँ मारुती सुजुकी भी बहुत जल्दी अपनी एक इलेक्ट्रिक कार भारत में लॉंच करने वाला है और यह कोई और कार नहीं बल्कि भारत की सड़को पर काफी ज्यादा चलने वाली एक कार है और जिसकी बिकरी पहले से ही भारत में काफी ज्यादा है। जी हाँ हम बात कर रहे है Maruti wagonr Electric कार की जिसे जल्द ही भारत में लॉंच किया जाएगा। Maruti Wagonr Electric कार को जानकारी के अनुसार हाल ही में टैस्टिंग के दौरान देखा गया था। जिससे साफ़ जाहिर होता है की बहुत जल्द यह कार भारत की सडको पर भी नजर आएगी। कंपनी अभी इस कार की लॉन्चिंग की तैयारी कर रही है। वहीँ आपको बता दे की इस कार का फ्यूल वर्जन पहले से ही भारत में काफी फेमस है जिस कारण इस आने वाले इलेक्ट्रिक वर्जन को भी काफी सेल मिलने की उम्मीद है। समय और पैसे की होगी बचत ऐसा बताया जा रहा है की एक बार चार्ज होने पर maruti wagonr electric कार 180 से 200 किलोमीटर के करीब चल लेती है। मतलब आप एक बार फुल चार्ज करने पर इस कार से अच्छी खासी दुरी तय कर सकते है। वहीँ इसमें सबसे खास यह है की इलेक्ट्रिक कार के फ़ास्ट चार्जर से इस कार को एक घंटे में करीब 80 प्रतिशत तक चार्ज कर सकते है। जिससे आपका समय और पैसा दोनों की काफी बचत होगी। अगर maruti suzuki wagonr इलेक्ट्रिक कार की कीमत की बात की जाये तो कंपनी ने अभी कोई कीमत का जिक्र नहीं किया है। पर जानकारी के अनुसार कंपनी इसे 12 लाख रुपए एक्स शोरूम प्राइस के तौर पर लॉंच कर सकती है। अभी लॉन्चिंग की कोई तरीक तो तय नहीं हुई है पर ऐसा माना जा रहा है की कंपनी wagonr maruti electric कार को फेस्टिव सीजन के आस पास ही लॉंच करेगी।

भारत में लॉन्च होने से पहले ही बैन हो सकता है PUBG का रीलॉन्च वर्जन Battle Ground Mobile India गेम-

भारत में लॉन्च होने से पहले ही बैन हो सकता है PUBG का रीलॉन्च वर्जन Battle Ground Mobile India गेम- भारत में PUBG गेम के लिए युवा वर्ग की दीवानगी किसी से छुपी नहीं थी परंतु कई चाइनीस एप्स और गेम्स के साथ-साथ PUBG गेम को भी पिछले साल भारत में प्रतिबंधित कर दिया गया था। PUBG गेम के बंद होने के बाद कई बार इसके ऊपर से बैन हटने की खबर सामने आई लेकिन वास्तव में ऐसा हुआ नहीं। PUBG गेम निर्माता कंपनी Krafton ने खास भारत के लिए एक अलग गेम Battle Ground Mobile India को लॉन्च करने का निर्णय लिया है । यह PUBG गेम का ही नया अवतार है। Krafton कंपनी के लिए इस गेम को भारत में लॉन्च करना इतना आसान नहीं होगा क्योंकि हाल ही में यूनियन मिनिस्टर और अरुणाचल प्रदेश के एमएलए Ninong Ering ने इस गेम को भारत में बैन करने का ऐलान किया है। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी को एक चिट्ठी लिखकर इस आने वाले गेम Battle Ground Mobile India पर रोक लगाने की बात कही है। उनका कहना है कि यह नया गेम PUBG गेम का ही नया वर्जन है। Ninong Ering के मुताबिक Krafton कंपनी ने Tencent कंपनी के कर्मचारियों को ही इस गेम को बनाने के लिए हायर किया है।Tencent एक चाइनीस टेक्नोलॉजी फर्म है, चाइनीस फर्म होने के कारण भारत के लिए यह एक चिंता का विषय है। Ninong Ering के मुताबिक Tencent , PUBG गेम की ही लीडिंग कंपनी है। अपनी चिट्ठी में Ninong Ering ने यह भी लिखा है कि Krafton कंपनी ने, गूगल प्ले स्टोर की लिस्ट में battle ground mobile india गेम को PUBG मोबाइल इंडिया गेम से जोड़कर ही बताया है। Battle Ground Mobile India गेम की तरफ से इस गेम की कोई लॉन्चिंग डेट की जानकारी नहीं दी गई है। इस गेम के लिए फ्री रजिस्ट्रेशन लिंक 18 मई से ही शुरू कर दिया गया था। भारत में यह गेम 18 जून को लॉन्च हो सकता है।

स्मार्टफोन खरीदने से पहले इन बातो का जरूर ध्यान रखे यह आपको एक बेहतर स्मार्टफोन चुनने में मदद करेंगी।

संवाददाता- यश भारद्वाज स्मार्टफोन खरीदने से पहले इन बातो का जरूर ध्यान रखे यह आपको एक बेहतर स्मार्टफोन चुनने में मदद करेंगी। टेक्नोलॉजी के बढ़ते इस दौर में अगर आप नए स्मार्टफोन को खरीदने की सोच रहे है तो आपको इन जरुरी बातों का रखना होगा खयाल जिन्हे जानकार आप एक अच्छे स्मार्टफोन को चुन पाएंगे और आपको एक भड़िया स्मार्टफोन खरीदने में मदद मिलेगी। स्मार्टफोन खरीदते टाइम आपको स्मार्टफोन के स्पेसिफिकेशन पर सबसे पहले ध्यान देना चाहिए। आइये आपको बताते है एक बढ़िया स्मार्टफोन के लिए क्या क्या चीजे जरुरी है। डिस्प्ले अगर स्मार्टफोन की डिस्प्ले की बात की जाये तो ज्यादातर लोग कंफ्यूज रहते है की एलसीडी डिस्प्ले बढ़िया है या फिर सैमसंग की अमोलेड डिस्प्ले बढ़िया है। आपको बतादे की एलसीडी डिस्प्ले की ब्राइटनेस ज्यादा होती है वही अमोलेड डिस्प्ले बैटरी पैनल की बचत करता है और अमोलेड में आपको कलर ऑप्शन भी बढ़िया मिल जाते है इसलिए एलसीडी और अमोलेड डिस्प्ले में अमोलेड डिस्प्ले को चुनना चाहिए । रिफ्रेश रेट स्मार्टफोन को खरीदते वक़्त डिस्प्ले के रिफ्रेश रेट को हमेशा देख के लेना चाहिए। फोन में रिफ्रेश रेट 60Hz 90Hz, 120Hz, 144Hz से लेकर 480Hz तक आते हैं। रिफ्रेश रेट आपके फोन में स्मूथनेस का प्रमाण होता हैं। ज्यादा रिफ्रेश रेट वाले फोन गेमिंग के लिए बहुत बढ़िया होते है वह गेमिंग को आसान बना देते हैं। वहीँ इसके साथ फोन के रेजोल्यूशन पर भी ध्यान देना चाहिए। 6-इंच की स्क्रीन वाले स्मार्टफोन के लिए HD रेजोल्यूशन को पूरा नहीं माना जाता है। इस साइज के स्मार्टफोन में Full HD रेजोल्यूशन का होना बढ़िया होता है। ऑपरेटिंग सिस्टम हमेशा मार्किट में लेटेस्ट आए हुए ऑपरेटिंग सिस्टम वाले फोन को ही खरीदना चाहिए। मार्किट में दो तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम मौजूद है एक एड्रोइड और दूसरा ios है। एंड्राइड गूगल का है तो ios एप्पल कंपनी का ऑपरेटिंग सिस्टम है एंड्राइड के मुताबिक ios अपने फोन में ज्यादा सिक्योरिटी प्रोवाइड करता है। वही एंड्राइड में इस टाइम लेटेस्ट वर्जन एंड्राइड 11 है। प्रोसेसर किसी भी स्मार्टफोन में प्रोसेसर फोन की जान होती है। इसलिए फोन खरीदते वक़्त प्रोसेसर का खास ध्यान रखना चाहिए। मार्केट में Qualcomm, MediaTek Helio, Apple Bioni, Exynos जैसी कंपनियों के प्रोसेसर मौजूद है। लेकिन जानने वाली बात यह है की इन प्रोसेसर के नाम पर ना जा कर, इनकी चिप पर ध्यान देना चाहिए क्यूकी जितनी छोटी चिप होगी उतना ही बढ़िया प्रोसेसर काम करेगा। इन चिप साइज को नैनो मीटर में नापा जाता है। यह 12nm, 8nm, 7nm, 5nm साइज में आते हैं। 12nm से बेहतर होगा कि आप 8nm या 7nm चिपसेट वाले फोन को ले। वहीँ अगर आप महंगा स्मार्टफोन खरीद रहे हैं, तो आपको 5nm चिपसेट वाले स्मार्टफोन को खरीदना चाहिए। Apple में यूज़ होने वाली लेटेस्ट Apple A14 Bionic चिप 5nm साइज़ में आती है। रैम और स्टोरेज बात अगर रैम और स्टोरेज की हो तो जैसे-जैसे लोगों की जरूरते बढ़ रही है वैसे ही समर्टफोन ने भी अपनी रैम और स्टोरेज बढ़ा दी है। वहीँ ऐप को रन कराने के लिए भी ज्याद इंटरनल स्टोरेज की जरूत पड़ती है। अगर आप एक बजट स्मार्टफोन खरीद रहे हैं, तो उसमे कम से कम 64GB का स्टोरेज जरूर हो। वहीं मिड रेंज स्मार्टफोन के लिए 128GB स्टोरेज बेहतर साबित होता है और फ्लैगशिप स्मार्टफोन के लिए 256GB स्टोरेज जरूरी होता है। अगर आप फोन में गेम खेलते हैं या फिर ज्यादा ऐप का इस्तेमाल करते हैं, तो आपको ज्यादा रैम वाला स्मार्टफोन लेना बेहतर होगा। ऐसे में बजट स्मार्टफोन के लिए 4GB से लेकर 6GB RAM बेहतर माना जाता है। वहीँ महंगे फोन में 12GB रैम तक का सपोर्ट दिया जाता है। कैमरा फोन के कैमरे को कभी मेगापिक्सल के हिसाब से नहीं देखना चाहिए और ना ही ज्यादा लेंस के तौर पर चुनना चाहिए। क्यूकी अगर ऐसा होता, तो कम मेगापिक्सल वाले iPhone से क्यू अच्छी फोटो क्लिक होती है। वहीँ आपको बतादे की अच्छे कैमरा की गारंटी ज्यादा मेगापिक्सल ही नहीं होता है, बल्कि कैमरे के सेंसर साइज़, अपर्चर, शटर स्पीड और फ़ोन के प्रोसेसर से फोन का कैमरा बेहतर बनता है। ऐसे में फोन लेते वक्त कैमरा से जुडी इन जानकारिओं को जरूर ध्यान में रखते हुए ही फोन ले। बैटरी ज्यादा ऐप और फोन के ज्यादा यूज के चलते फोन में बड़ी बैटरी का होना ही जरूरी है। बेहतर होगा कि हमेशा 4000mAh से बड़ी बैटरी वाले फोन का ही चुनाव किया जाये। क्यूकी अब फोन ज्यादा रिफ्रेश रेट, ज्यादा ब्राइटनेस और ज्यादा रेजोल्यूशन के साथ आते हैं, जो बैटरी की तेजी से खपत करते है। बैटरी की ज्यादा खपत के चलते हमेशा फास्ट चार्जर वाले स्मार्टफोन का चुनाव करें। देखा जाये तो मौजूदा वक्त में 18W से लेकर 65W तक के चार्जर आने लगे हैं, जो मिनटों में स्मार्टफोन को फुल चार्ज कर देते हैं। ऐसे में ग्राहक को अपनी जरूरत के हिसाब से चार्जर का चुनाव करना चाहिए।

लेटेस्ट
मथुरा मे धौली प्याऊ इस्तिथ श्री राम धरमशाला मे भगवान श्री राम लला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष्य मे यज्ञ व प्रसाद वितरण किया गया।
मथुरा मे धौली प्याऊ इस्तिथ पथवारी माता मंदिर पर शरद पूर्णिमा के पावन पर्व पर माता को चढ़ाई गयी पोशाख।
इज़राइल में फंसे भारतीय नागरिकों की विदेश मंत्रालय कर रहा मदद, 'ऑपरेशन अजय' के तहत चौथी उड़ान पहुंची भारत।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने दिया अफगानी नागरिकों को हर संभव मदद का आश्वासन।
भारत और संयुक्त राष्ट्र ने वैश्विक क्षमता निर्माण पहल शुरू की, विकास के अनुभव होंगे साझा।
बरसाना के राधा रानी मंदिर मे राधा अष्टमी के पावन पर्व पर हुई दो श्रद्धालुओं की मौत।
उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले के सोंख अड्डे स्तिथ पेट्रोलपंप पर पेट्रोल डीजल की हो रही घपलेबाजी।
मंगोलिया यात्रा पर विदेश सचिव (पूर्व) सौरभ कुमार ने माध्‍यमिक विद्यालय के निर्माण के अनुबंध पर किये हस्‍ताक्षर।
मंगोलिया यात्रा पर विदेश सचिव (पूर्व) सौरभ कुमार ने माध्‍यमिक विद्यालय के निर्माण के अनुबंध पर किये हस्‍ताक्षर।
वृन्दावन के सुनरख रोड पर मिला एक युवती का घायल शव।
जी 20 की 56 शहरों में 215 बैठकें होंगी, आयोजन स्थल के शहरों को होगा लाभ: जी-20 मुख्य समन्वयक हर्षवर्धन शृंगला
प्रवास और गतिशीलता बढ़ाने पर भारत और फिनलैंड ने किये संयुक्त घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर