Home / lifestyle

साइकिल चलाना कैंसर का इलाज, शोध में हुआ चौकाने वाला खुलासा।

साइकिल चलाना कैंसर का इलाज, शोध में हुआ चौकाने वाला खुलासा।

शरीर को स्वस्थ्य रखने के लिए व्यायाम करना बहुत ज़रूरी है. कोई भी व्यायाम हम लगातार नहीं कर सकते, लेकिन हम अगर रोज़ आने जाने में साइकिल का इस्तेमाल करें तो उसके कई फायदे होंगे। सबसे पहला फायदा तो ये होगा की आपकी सेहत अच्छी रहेगी, पेट्रोल की बचत होगी, पर्यावरण में प्रदुषण कम होगा साथ ही साथ और भी कई फायदे होंगे, इन सब में सबसे ज्यादा फायदा होगा सेहत का, क्यूंकि अगर आप साइकिल चलाएंगे तो आपको कैंसर जैसी खरतरनाक बिमारी नहीं होगी साथ ही साथ दिल का दौरा पड़ने का खतरा भी बहुत ही कम हो जाएगा। अगर आप नियमित रूप से साइकिल चलाते हैं तो आपको डायबटीज़ कंट्रोल करने में भी मदद मिलेगी।

एक शोध में 7,000 से ज्यादा वयस्कों के स्वास्थ्य डेटा की जांच की गयी. अध्ययन के आधार पर शोधकर्ता की टीम ने निष्कर्ष निकाला कि पांच साल से अधिक समय तक नियमित साइकिल चलाने से असमय मृत्यु के जोखिम को 35 प्रतिशत तक कम किया जा सकता है। कई लोगों के मन में सवाल उठ रहे होंगे की कितनी साइकिल चलाई जाए की इन बिमारियों से छुटकारा मिले तो रिसर्च के तथ्यों के अनुसार लोग अपनी ज़रूरत के हिसाब से साइकिल चलाते हैं साइकिल चलाने को एन्जॉय करना चाहिए आप जितना भी इसे चलाएंगे उतनी ही आपकी कैलोरी बर्न होगी और आप बिमारियों से बचे रहेंगे। अगर आप साइकिल नहीं भी चलाते हैं तो भी आपको किसी न किसी तरह एक्सरसाइज के लिए समय निकालना चाहिए, क्योंकी स्वस्थ्य रहने के लिए एक्सरसाइज करना बहुत जरुरी होता है.

Story by - Nitin Sharma
Updated on 2021-08-17 10:53:09


ये भी पढ़ें...
Soft Roti : मुलायम मुलायम फूली फूली चपाती बनाएं

Soft Roti : मुलायम मुलायम फूली फूली चपाती बनाएं मुलायम व फूली रोटी खाने में बहुत ही स्वादिष्ट लगती हैं और जब भोजन की थाली में मुलायम व फूली हुई रोटियां खाने वाले के सामने परोसी जाती हैं तो यह खाने का स्वाद चौगुना कर देती हैं। मुलायम रोटी बनाने के लिए हमें कई बातों का ध्यान रखना चाहिए अक्सर रोटी गरम-गरम तो खाने में मुलायम लगती हैं लेकिन वही रोटी कुछ समय बाद (2- 4 घंटे बाद) खाते है तो वह सख्त हो जाती हैं । आज हम आपको मुलायम रोटी कैसे बना सकते हैं इसके कुछ आसान टिप्स बताते हैं ,जिससे रोटी कभी भी सख्त नहीं होंगी। 1.जब भी हम आटा गूंथते है तब इस बात का विशेष ध्यान रखना है कि रोटी बनाने के लिए आटा पूरी के आटे से पतला गूंथा जाता है । 2. रोटी बनाने से आधे घंटे पहले ही आटा गूंथ कर रख देना चाहिए। 3. जब रोटी बनाना शुरू करें उससे पहले आटे को दोबारा एक बार दोनों हाथों से गूंथ ले । 4. आटा गूंथते समय इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि आटे को थोड़ा-थोड़ा पानी लगा कर ही बार-बार गूंथना चाहिए आटे को जितना अच्छा गूंथेगे रोटी उतनी ही मुलायम होगी। 5 .जब रोटी बेलते है तब रोटी को बिलकुल बराबर व पतला बेलना चाहिए।(रोटी का आकार कहीं मोटा कहीं पतला नहीं रहना चाहिए) 6. रोटी तवे पर डालने के तुरंत बाद एक बार उठा कर फिर डालनी चाहिए । पहली तरफ से रोटी जल्दी ही पलट देनी चाहिए दूसरी तरफ से रोटी को थोड़ा सिकने देना चाहिए। 7. रोटी को तेज आंच पर सेंकना चाहिए। धीमी आंच पर सेंकने से रोटी सख्त हो जाती हैं। यदि हम इन सभी बातों का ध्यान रखें तो हमारी रोटी कभी भी सख्त नहीं होगी मुलायम मुलायम फूली फूली रोटी बनेगी।

भगवान को लगायें भोग, आसानी से घर में ऐसे बनायें व्रत वाली लौकी की खीर।

भगवान को लगायें भोग, आसानी से घर में ऐसे बनायें व्रत वाली लौकी की खीर। जन्माष्टमी के दिन लोग भगवान श्री कृष्ण की पूजा करते हैं और व्रत रखते हैं. भगवान कृष्ण को भोग लगाने के लिए बहुत आसान और स्वादिष्ट मेवा युक्त लौकी की खीर हम आपको बनाना बताते हैं। सामग्री दूध- 1 किलो देसी घी- 100 ग्राम मखाने -100 ग्राम लौकी -1 किलो काजू- 8 10 पीस बादाम- 8 10 पीस कद्दूकस किया हुआ थोड़ा सा नारियल। हरी इलायची- 4 से 5 पिसी हुई। चीनी -ढाई सौ ग्राम विधि सबसे पहले लौकी को धोकर कद्दूकस कर लेंगे। बिना पानी डाले हुए चीनी डालकर एक कुकर में उबलने रख देंगे। चार से पांच सिटी आने तक उबाल लेंगे। दूसरी कढ़ाई में दूध उबालने के लिए रख देंगे। दूध को रबड़ी जैसा गाढ़ा होने तक उबाल लें। अब लौकी को निकाल कर कढ़ाई में चार- पांच चम्मच घी डालकर गुलाबी होने तक भून लें। जब हमारी लौकी गुलाबी रंग की भून जाएगी तब गैस बंद कर दें और दूसरी तरफ मखाना को थोड़े से घी में एक दो चम्मच घी में करारा होने तक भून लें, और उनको मिक्सी में डालकर महीन चूरा कर लेंगे। काजू बादाम को छोटा छोटा काट लेंगे जो हमने दूध रबड़ी जैसा तैयार किया है उसमें भूनी हुई लौकी, मखाने ,काजू बादाम सभी कुछ डाल कर 5 मिनट और पकने देंगे, जब यह तैयार हो जाए इसमें इलायची पाउडर डालकर गैस से उतार लें। इस तरह लौकी की खीर तैयार हो जाएगी। थोड़ी देर फ्रीज में रखने के बाद इसको खाएं यह बहुत ही स्वादिष्ट लगेगी।

डायबटीस में दवाइयों के सेवन से बचें, आयुर्वेदिक उपचार पर रखें ध्यान, खाने पीने की आदत में करें सुधार।

डायबटीस में दवाइयों के सेवन से बचें, आयुर्वेदिक उपचार पर रखें ध्यान, खाने पीने की आदत में करें सुधार। जब किसी को डायबिटीज हो जाती है तो उसको खाने पीने में बहुत ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. क्योंकि जरा सी भी लापरवाही आपका वजन बढ़ा सकती है और उससे शुगर लेवल भी बिगड़ सकता है. डायबिटीज के मरीजों को हेल्दी लाइफ़स्टाइल जीने की जरूरत होती है. जिस व्यक्ति को डायबिटीज हो उसको अपना वजन भी कम रखना चाहिए डायबिटीज को रोकने के लिए हम कई सारी दवाइयां खाते हैं और इसका इलाज करने की कोशिश करते हैं. लेकिन उन दवाइयों का हमारी सेहत पर बहुत ज्यादा बुरा प्रभाव पड़ता है इसलिए हमें कोशिश करनी चाहिए कि खानपान के जरिए या आयुर्वेदिक दवाइयों से इसको कम करने की कोशिश करें ताकि आपकी सेहत पर कम से कम इसका प्रभाव पड़े। आयुर्वेद में ऐसी कई चीजें हैं जिनके इस्तेमाल से आप डायबिटीज को कंट्रोल कर सकते हैं. डायबिटीज के क्या लक्षण होते हैं और क्या उपाय हैं हम आपको बताते हैं. ये होते हैं डायबिटीज के लक्षण किसी को डायबिटीज होती है तो उसे बहुत ज्यादा प्यास लगती है. बार बार टॉयलेट आना भी एक डायबिटीज का लक्षण होता है. जिसको डायबिटीज होती है उसको भूख बहुत ज्यादा लगने लगती है जिसको डायबिटीज होती है उसका वजन अचानक से बढ़ने लगता है या अचानक से कम होने लगता है और उसे थकान महसूस होने लगती है. डायबिटीज का लक्षण है कि जिस आदमी को डायबिटीज होती है वह चिड़चिड़ा हो जाता है. डायबिटीज के मरीज को आंखों से धुंधला दिखने लगता है आंखों में उसकी धुंधलापन आ जाता है और उसका घाव देरी से भरता है. जिसको डायबिटीज होती है उसको इंफेक्शन भी जल्दी जल्दी हो जाता है और सबसे ज्यादा स्किन इन्फेक्शन उसे सताता है. स्किन इन्फेक्शन के साथ-साथ ओरल इन्फेक्शन और वजाइनल इन्फेक्शन ज्यादा होने लगते हैं. अगर आपको इस तरह का कोई भी लक्षण अपने आप में दिखाई दे, तो चिकित्सक से तुरंत संपर्क करना चाहिए। डायबिटीज में यह आयुर्वेदिक दवाइयां है फायदेमंद अंजीर के पत्ते आपके लिए फायदेमंद हो सकते हैं. आप डायबिटीज में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं. इसमें मधुमेह विरोधी गुण होते हैं जिससे डायबिटीज कंट्रोल रहती है और आपका ब्लड शुगर लेवल भी कम करने में मददगार साबित होता है. अंजीर के पत्तों को खाली पेट चबाने से या पानी में उबालकर पीने से डायबिटीज कंट्रोल होती है. डायबिटीज से बचने के लिए मेथी का भी इस्तेमाल किया जा सकता है. यह डायबिटीज के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होती है मेथी के बीजों का सेवन करने से ब्लड शुगर कंट्रोल होता है. अगर आप एक चम्मच मेथी के बीज को 8 से 10 घंटे पानी में भिगोकर रखेंगे और सुबह खाली पेट इन बीजों को और पानी को पी लेंगे तो आपके शरीर में फायदा होगा और मधुमेह कम होगा। सप्ताह में दो से तीन बार ऐसा करना चमत्कारिक लाभ देता है. आप दालचीनी का भी इस्तेमाल कर सकते हैं. दाल चीनी भी डायबिटीज कंट्रोल करने में मदद करता है. अगर आप हर रोज दालचीनी के पाउडर का उपयोग करते हैं तो आपकी डायबिटीज कंट्रोल में रहेगी। इसके लिए रोज आधा चम्मच दालचीनी पाउडर सुबह खा ले आपकी डायबिटीज कंट्रोल रहेगी। डायबिटीज कंट्रोल करने के लिए अंगूर के बीज बहुत गुणकारी होते हैं। इसमें विटामिन ई, लिनोलिक एसिड जैसे तत्व पाए जाते हैं जो डायबिटीज कंट्रोल करने में मददगार साबित होते हैं. आप इन के बीजों को पीसकर चूर्ण बनाकर भी इस्तेमाल कर सकते हैं. जैतून का तेल भी डायबिटीज कंट्रोल करने में मददगार होता है इससे ट्राइग्लिसराइड्स लेवल कम करने में सहायता मिलती है. लहसुन भी काफी गुणकारी होता है. यह खाने में कोलेस्ट्रॉल को कम करता है और ब्लड शुगर कंट्रोल रखता है. आप एलोवेरा का भी इस्तेमाल कर सकते हैं एलोवेरा का जूस पीने से रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में मदद मिलती है. साथ ही साथ आप आमला का भी सेवन कर सकते हैं यह भी ब्लड शुगर को कंट्रोल रखता है. तो दोस्तों ये कुछ टिप्स हैं जो जानकारों द्वारा दी गयी हैं ताकि लोगों को डाइबिटीज़ में आराम मिल सके. लेकिन फिर भी अगर आपको डायबिटीज की समस्या है तो डॉक्टर्स से सलाह ज़रूर लें।

Post Covid Symptoms कोरोना से ठीक हुए लोगों में बालों के झड़ने की समस्या, दूसरी लहर के बाद बढ़ी समस्या पढ़ें कैसे कम करें बालों का झड़ना।

Post Covid Symptoms कोरोना से ठीक हुए लोगों में बालों के झड़ने की समस्या, दूसरी लहर के बाद बढ़ी समस्या पढ़ें कैसे कम करें बालों का झड़ना। Covid Hair Fall : कोरोना से ठीक होने के बाद भी कई तरह की समस्या से लोगों को जूझना पड़ रहा है. इसमें एक समस्या बालों का झड़ना भी है. जब कोरोना की पहली लहर आयी थी तो लोगों में थकान, सांस लेने में परेशानी, हार्ट में प्रॉब्लम, डिप्रेशन का होना और स्ट्रेस जैसी समस्या आम थीं वहीँ बालों का झड़ना दूसरी लहर के बाद जयादा देखा जा रहा है. जो लोग कोरोना से रिकवर हुए हैं उन्हें नहाने के बाद बाल झड़ने की समस्या ज़यादा होती है बाल सुखाते हुए या तेल लगाते हुए भी काफी बाल झड़ जाते हैं. कोरोना से ठीक होने के एक दो महीने बाद ये समस्या शुरू होने लगती है. एक्सपर्ट्स मानते हैं की स्ट्रेस लेने से ये समस्या शुरू होती है. अगर आपको भी बाल झड़ने की समस्या हो रही है तो आप अपनी लाइफ स्टाइल में थोड़ा बदलाव करके इस समस्या से निजात पा सकते हैं. ऐसे रोकें बालों का झड़ना, जानिये ये आसान से टिप्स अगर आपको अपने बाल झड़ने से रोकने हैं तो सबसे पहले मुस्कुराइए और ज्यादा से ज्यादा खुश रहने की कोशिश करें। दिन की शुरुआत अच्छी करना बहुत जरुरी है इसलिए सुबह उठकर सबसे पहले ऑइल पुलिंग करनी चाहिए। इसे करने के लिए सबसे पहले मुंह में एक से दो चम्मच तेल लें और 2 से 4 मिनट तक मुंह में रखें. फिर थोड़ी देर बाद कुल्ला कर लें. अगर आप ऐसे कुछ दिन तक करेंगे तो आप महसूस करेंगे की आपके बालों का झड़ना कम हो गया है. इसके अलावा हमेशा संतुलित आहार ही लें. समय समय पर हल्दी वाला दूध, तुलसी सौंफ अदरक का काढ़ा, इलाइची या दालचीनी की चाय भी पी सकते हैं. खाने को समय से सही से चबा के खाएं इससे आपके बालों पर फरक पड़ता है. इसके साथ-साथ अगर आप हल्की एक्सरसाइज भी करेंगे तो बहुत ही अच्छा रहेगा। डेली रूटीन में एक्सरसाइज और प्राणायाम करें जिससे आपके शरीर और मस्तिष्क की रिकवरी तेज़ी से होगी और बालों का झड़ना कम हो जायेगा।

बुढ़ापें में गिरने और फिसलने का रहता है खतरा, घर में करें बुनियादी सुधार, सुरक्षित रहेंगे बुज़ुर्ग।

बुढ़ापें में गिरने और फिसलने का रहता है खतरा, घर में करें बुनियादी सुधार, सुरक्षित रहेंगे बुज़ुर्ग। Old Age Problem: जैसे जैसे इंसान बूढ़ा होता है वैसे वैसे उसकी हड्डियां भी कमज़ोर हो जाती हैं इसलिए हमें उन्हें हर तरह के जोखिम से बचाना चाहिए, घर में बुज़ुर्ग हों तो घर ऐसा बनाना चाहिए जिसमे चोट लगने या दुर्घटना होने का खतरा कम हो. फिसलना और गिरना किसी भी बुजुर्ग के लिए एक नौजवान के मुकाबले ज्यादा खतरनाक होता है क्यूंकि इस उम्र में हलकी सी चोट लगने से भी हड्डी टूट सकती है, इसलिए अगर आप घर में कुछ एहतियात बरतते हैं तो ऐसी दुर्घटनाओं से बचा जा सकता है. घर में आप कुछ बुनियादी सुधार कर सकते हैं. फ्लोर पर आप कोई ढीला कार्पेट इस्तेमाल न करें। अगर कालीन फट गया है तो उसे हटादें क्यूंकि इसमें पर फस सकता है और वो गिर सकते हैं. आने जाने वाली जगहों को खुला रखना चाहिए ताकि उन्हें आने जाने में तकलीफ न हो. जिस सीढ़ी से घर के बुज़ुर्ग गुज़रते हों वहां लाइट की अच्छी व्यवस्था होनी चाहिए इसके साथ ही ऐसे फुटवेयर पहनाने चाहियें जो स्लिप न होते हों. जहाँ वो रात में सोते हों वहां बिस्तर के पास ही लैंप का बटन होना चाहिए जिससे आसानी से वो लाइट जला सकें। इसके साथ साथ ध्यान रखने चाहिए की बिस्तर की ऊंचाई ज्यादा न हो इससे उन्हें चढ़ने उतरने में दिक्कत नहीं होगी। जिस सामान हो बुज़ुर्ग रोज़मर्रा की ज़िंदगी में इस्तेमाल करते हों उस सामान को ज़यादा उचाई पर नहीं रखना चाहिए, जब भी बुज़ुर्ग घर से बाहर निकले तो ढीले-ढाले कपड़े पहनें ताकि वो कम्फर्टेबल रह सकें। तो अगर आप ये कुछ टिप्स अपनाएंगे तो आप अच्छी तरह से उनकी देखभाल कर पाएंगे।

Hair Tips: मानसून में होती है बाल झड़ने की समस्या, पढ़िए कैसे करें बालों की देखभाल

Hair Tips: मानसून में होती है बाल झड़ने की समस्या, पढ़िए कैसे करें बालों की देखभाल लंबे इंतज़ार के बाद मानसून ने दस्तक दे दी है लेकिन यही दस्तक आपके बालों के लिए नुक्सानदायक हो सकती है, अक्सर मानसून के सीजन में बालों से संबंधित समस्या हो जाती है. बाल कमज़ोर हो जाते हैं और टूटने लगते हैं. जिसे आप अच्छी डाइट लेकर रोक सकते हैं साथ ही साथ अगर आप लाइफस्टाइल में थोड़ा बदलाव करें तो भी आप इस समस्या से छुटकारा पा सकते हैं. तो चलिए हम आपको ऐसे कुछ उपाय बताते हैं जिससे आप बालों को झड़ने से रोक सकते हैं. अगर आप मानसून में भोजन के साथ घी भी खाएंगे तो आपके बाल स्वस्थ रहेंगे घी का सेवन करने से बालों की लंबाई भी बढ़ती है. घी में पाया जाने वाला फैटी एसिड, पौष्टिक एजेंट होता है और बालों को स्वस्थ रखता है मछली में प्रोटीन, विटामिन ए, ओमेगा-3 फैटी एसिड अधिक मात्रा में पाया जाता है जो बालों के लिए फायदेमंद होता है, विटामिन ए प्राकृतिक तेल पैदा करने में मददगार होता है जो बालों को नम रखता है, जबकि ओमेगा-3 फैटी एसिड बाल के विकास के लिए लाभदायक होता है. अंडा में बायोटिन और प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है जो बालों के विकास में मदद करता है. इसके अलावा, बायोटिन बाल को स्वस्थ रखने में मददगार होता है. पालक का सेवन भी बालों के लिए बहुत अच्छा होता है. इसमें आयरन, फलोट और विटामिन्स बी पाया जाता है जो बाल के विकास में मदद करता है. आप पालक को सब्जी के तौर पर खा सकते हैं. जामुन खाने से भी बाल स्वस्थ रहते हैं, जामुन में विटामिन सी, अन्य पोषक तत्व और एंटीऑक्सीडेंट्स अधिक होते हैं. जो कोलेजन के उत्पादन के लिए जरूरी होता है,कोलेजन स्किन के रोम छिद्र की रक्षा करने के लिए जाना जाता है और आपके बाल की जड़ों को मजबूत बनाता है.

Tips To Cut Onions Without Tears: बिना आँसुओं के काटें प्याज

Tips To Cut Onions Without Tears: बिना आँसुओं के काटें प्याज दाल में छौंक लगाना हो, स्वादिष्ट सलाद तैयार करनी हो या मसालेदार सब्जी तैयार करनी हो जबतक इनमे प्याज का तड़का न लगे तब तक स्वाद नहीं आता. कुल मिलाकर ये कहा जा सकता है की जिस खाने में प्याज पड़ जाए उसका ज़ायका दुगना हो जाता है, वहीँ इसको काटना टेडी खीर है, इसे काटने में अच्छे अच्छों के आंसू निकल आते हैं. लोग प्याज काटते रहते हैं और आंसू बहाते रहते हैं. आज Kitchen Hacks में हम आपको प्याज काटने के कुछ ऐसे टिप्स बताएँगे जिससे आपका ये काम काफी आसान हो जायेगा और आपको आंसू भी नहीं बहाने होंगे। पढ़ें ये असरदार टिप्स प्याज को काटने से पहले आधा घंटा उसे पानी ने भिगो कर रख दें, इसके बाद जब आप इसे काटेंगे तो आंसू नहीं आएंगे. ध्यान रखें की छिलका उतार कर ही पानी में भिगोयें और सावधानी बरतते हुए प्याज को काटें क्यूंकि पानी में पड़े रहने की वजह से चिपचिपा हो जाता है. प्याज को बिना परेशानी के काटने के लिए आप विनेगर का उपयोग भी कर सकते हैं इसके लिए आप प्याज को छीलकर विनेगर (Vinegar) में थोड़ा पानी डालकर प्याज उसमें डाल दें थोड़ी देर बाद जब आप प्याज काटेंगे तो आंसू नहीं आएंगे. आप आँखों में जलन और आंसू से बचने के लिए इसे फ्रिज में भी रख सकते हैं, प्याज को छीलकर उसे फ्रिज में रख दें कुछ देर बाद जब आप इसे काटेंगे तो आपको आंसू की समस्या नहीं होगी। फ्रिज में प्याज की महक न भर जाये इसलिए आप प्याज को डब्बे में बंद करके रखें।

08 जुलाई को मनाते हैं ब्लूबेरी डे ,जानिए ब्लूबेरी के फायदे

08 जुलाई को मनाते हैं ब्लूबेरी डे ,जानिए ब्लूबेरी के फायदे आज पूरा देश ब्लूबेरी दिवस मना रहा है। हर साल 08 जुलाई का दिन राष्ट्रीय ब्लूबेरी दिवस के रूप में मनाया जाता है, जिसकी शुरुआत हॉलिडे इनसाइट्रस नाम के संगठन के द्वारा की गई थी। वर्तमान समय में लोगों के खान पान में बहुत अधिक बदलाव हुआ है और लोग पौश्टिक भोजन को नजरअंदाज कर फास्ट फूड की तरफ ज़्यादा आकर्षित हो रहें हैं। जिसकी वजह से लोगों की रोग प्रतिरोधक छमता लगातार कम होती जा रही है और लोग बीमार ज़्यादा पड़ने लगे हैं. हम कम बीमार पड़ें इसके लिए चाहिए की हमारी खान पान की आदत अच्छी हो वहीँ कुछ फल हमारी इम्युनिटी को बढ़ाते हैं जिनमे सबसे ख़ास है ब्लूबेरी तो चलिए आज हम आपको ब्लूबेरी के बारे में जानकारी दे रहें जो आपके सेहत के लिए काफी फायदेमंद साबित होगी और इसके नियमित सेवन से आप हेल्दी रहेंगे। ब्लूबेरी फल में फाइवर और एंटीऑक्सीडेंट प्रचूर मात्रा में पाया जाता हैं जिसके कारण ब्लूबेरी फल सभी लोगों के लिए काफी फायदेमंद है। ब्लूबेरी के सेवन से कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ ही दिल को भी दुरूस्त रखने में भी काफी मदद मिलती है। फाइवर और एंटीऑक्सीडेंट से है भरपूर ब्लूबेरी की ख़ास बात ये भी है की ये कैलोरी में कम होती है लेकिन कैलोरी में कम होने के बाद भी भरपूर मात्रा में पोषक तत्त्व पाए जाते हैं. कुछ लोगों में डीएनए लॉस की भी समस्या बनी रहती है तो ऐसे लोगों के लिए भी ये काफी लाभदायक है क्यंकि ये डीएनए लॉस को नहीं होने देती इसके साथ ही कैंसर से बचाने में भी काफी मददगार होती है. ब्लूबेरी का अगर आप सेवन करते हैं तो ब्लड प्रेशर और केलेस्ट्रॉल भी कंट्रोल में रहता है. आज ब्लूबेरी डे है और देश में तमाम लोग इसे खाकर ब्लूबेरी डे मानते हैं ये दिन इसलिए मनाया जाता है ताकि लोग इसके फायदे जान सकें। तो आप भी इस फल का नियमित सेवन कर सकते हैं और हेल्दी लाइफ स्टाईल का अनुभव कर सकते हैं.

लेटेस्ट
मथुरा मे धौली प्याऊ इस्तिथ श्री राम धरमशाला मे भगवान श्री राम लला प्राण प्रतिष्ठा समारोह के उपलक्ष्य मे यज्ञ व प्रसाद वितरण किया गया।
मथुरा मे धौली प्याऊ इस्तिथ पथवारी माता मंदिर पर शरद पूर्णिमा के पावन पर्व पर माता को चढ़ाई गयी पोशाख।
इज़राइल में फंसे भारतीय नागरिकों की विदेश मंत्रालय कर रहा मदद, 'ऑपरेशन अजय' के तहत चौथी उड़ान पहुंची भारत।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने दिया अफगानी नागरिकों को हर संभव मदद का आश्वासन।
भारत और संयुक्त राष्ट्र ने वैश्विक क्षमता निर्माण पहल शुरू की, विकास के अनुभव होंगे साझा।
बरसाना के राधा रानी मंदिर मे राधा अष्टमी के पावन पर्व पर हुई दो श्रद्धालुओं की मौत।
उत्तर प्रदेश के मथुरा जिले के सोंख अड्डे स्तिथ पेट्रोलपंप पर पेट्रोल डीजल की हो रही घपलेबाजी।
मंगोलिया यात्रा पर विदेश सचिव (पूर्व) सौरभ कुमार ने माध्‍यमिक विद्यालय के निर्माण के अनुबंध पर किये हस्‍ताक्षर।
मंगोलिया यात्रा पर विदेश सचिव (पूर्व) सौरभ कुमार ने माध्‍यमिक विद्यालय के निर्माण के अनुबंध पर किये हस्‍ताक्षर।
वृन्दावन के सुनरख रोड पर मिला एक युवती का घायल शव।
जी 20 की 56 शहरों में 215 बैठकें होंगी, आयोजन स्थल के शहरों को होगा लाभ: जी-20 मुख्य समन्वयक हर्षवर्धन शृंगला
प्रवास और गतिशीलता बढ़ाने पर भारत और फिनलैंड ने किये संयुक्त घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर